Tuesday, 4 August 2015

आरक्षित बस कुछ के सपने




हुए आरक्षित रोटी और कपड़े,
धरती और नभ के भी टुकड़े

आरक्षित बच्चों के बस्ते,
आरक्षित स्कूलों के रस्ते

आरक्षित सरस्वती की वीणा,
आरक्षित धरती का सीना

आरक्षित दफ्तर के द्वार,
सरस्वती-वीणा के तार

आरक्षित पुस्तक के पन्ने,
आरक्षित बस कुछ के सपने 



They reserved bread and clothing,
And reserved the earth and the sky

They reserve children's bags,
And reserved the pathways to school

They reserved Saraswati’s Veena ,
And reserved the chest of earth

They reserved office-doors,
And reserved the strings of Saraswati’s Veena

They reserved pages of books,

And they reserved dreams of only a few

No comments:

Post a comment